क्या भूत होते हैं? | इन सवालों का जवाब वैज्ञानिको के पास भी नहीं हैं |10 Amazing Fact around our life |

पिछले कुछ दशकों में विज्ञान ने काफी प्रगति कर ली है कई कार्य जो कल तक हमें असंभव लगते थे। आज संभव है पर ऐसे कई सवाल अभी हैं जिनके जवाब विज्ञान के पास अभी तक नहीं है इस Article में हम ऐसे 10 सवालों के बारे में जानेंगे  
क्या ईश्वर का अस्तित्व है ?

  01.  क्या ईश्वर का अस्तित्व है ?... 

हम उसे कई नामों से जानते हैं जैसे गॉड भगवान अल्लाह और खुदा। सभी धर्म यह मानता है कि इस सृष्टि का निर्माण ईश्वर ने हीं किया है पर विज्ञान हमेशा से इसे  नाकरता आया है। पर विज्ञान के अनुसार लगभग 14 अरब साल पहले एक भयंकर विस्फोट जिसे बिगबैंग कहते हैं जिससे ब्रह्मांड का निर्माण हुआ था।  पर यह विस्फोट  क्यों हुआ था इस सवाल का उत्तर विज्ञान के पास नहीं है। पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत कैसे हुई इस पर भी वैज्ञानिकों में मतभेद बना हुआ है। क्वांटम फिजिक्स की रहस्यमई दुनिया, जीवन जीने लायक बनाने के लिए पृथ्वी का सटीक आकार, Sun से इसकी सटीक दूरी, इसका वातावरण, इसका चांद सब कुछ इतना परफेक्ट है, कि हमें यह सोचने पर मजबूर कर देता है कि कहीं सच में ईश्वर ने ही तो सृष्टि का निर्माण नहीं किया

02. क्या भूत होते हैं? 

इस विषय पर लोग बैठे हुए हैं जहां कई लोग मानते हैं कि भूत होते हैं कई लोग ऐसे भी हैं जो मानते हैं कि वह नहीं होते होते। भूतों की देखे जाने की बातें और सबूत के तौर पर उनके फोटोस और वीडियो विश्व भर में मिलते रहे हैं वैज्ञानिकों को ऐसा कोई ठोस प्रमाण नहीं मिला है जिससे कि यह सिद्ध हो सके कि वह सच में होते हैं वैज्ञानिकों और ghost-hunters ने इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड डिटेक्टर, थरमल इमेजिंग तकनीक का इस्तेमाल कर सबूत जुटाने की कोशिश की। पर उन्हें जो भी मिला वह कुछ भी साबित करने के लिए काफी नही था.  वैज्ञानिकों के अनुसार यह दिमागी बीमारी, दिमाग में इलेक्ट्रिक तरंगों के कारण होता है। चुकी इस theory को न हीं prove किया जा सकता है और ना ही  डिस्प्रोफ़्फ़। भूत हमारे लिए एक रहस्य ही बने हुए 
क्या भूत होते हैं?

03. हम सपना क्यों देखते हैं?

हमें यह तो पता है कि जब हम सपना देखते हैं दिमाग में सेल्ल्स इलेक्ट्रिकल सिग्नल का आदान प्रदान करते हैं पर हम यह नहीं जानते कि हम सपना देखते क्यों हैं एक theory के अनुसार दिन भर की थकान और तनाव से छुटकारा दिलाने के लिए दिमाग ऐसा करता है एक दूसरी theory के अनुसार हम जो असल जिंदगी में करना चाहते हैं पर किसी कारण बस नहीं कर पाते वह हमें सपनों के रूप में नजर आता है एक और theory के अनुसार अगर दिमाग को हार्ड ड्राइव माने तो सपना एक disk cleaner की तरह काम करता है। तथा आपके दिमाग से फालतू पड़े डाटा को निकाल बाहर करता है।  theory तो कई है पर कोई भी यह पक्के तौर पर नहीं कह सकता कि असल में हम सपना देखते क्यों हैं।  

04.ब्रह्मांड किस चीज से बना है?

जो भी हम अपने आसपास देखते हैं वह एटम से मिलकर बना है पर आश्चर्यजनक रूप से पूरे ब्रह्मांड का केवल 5% भाग ही एटम से बना है बाकी का 95% भाग किससे बना है हम नहीं जानते अब तक हम जितना जान पाए हैं उससे यह पता चला है कि ब्रह्मांड का ज्यादातर भाग-2 एंटिटी से मिलकर बना है डार्क मैटर और डार्क एनर्जी डार्क मैटर के बारे में कहा जाता है कि यह गैलेक्सी को आपस में बांधे रखता है। जबकि डार्क एनर्जी ब्रह्मांड फैलते रहने का कारण है। डार्क मैटर और डार्क एनर्जी न हीं दिखाई देते हैं और ना ही किसी इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन से डिटेक्ट किए जा सकते हैं। इनके बारे में यह जानना कि दरअसल यह है क्या लगभग नामुमकिन है 
earth blackhole

05. ब्लैक होल के उस पार क्या है?

हम सब यह जानते हैं कि ब्लैक होल में गुरुत्वाकर्षण का प्रभाव इतना ज्यादा होता है कि प्रकाश भी इससे वापस नहीं आ पाता पिछले कुछ दशकों में हमने ब्लैक होल के बारे में काफी जानकारियां इकट्ठा की है पर हम अभी यह नहीं जानते कि उसके उस पार क्या है आइंस्टीन के अनुसार ब्लैक होल अनंत रूप छोटा होता चला जाता है जबकि वर्तमान भौतीक साइंटिस्ट के अनुसार यह दूसरे ब्रह्मांड जाने का द्वार हो सकता है, जिसका इस्तेमाल कर हम काफी कम समय में दूसरे ब्रह्मांड में जा सकते हैं। दुर्भाग्य से अभी हम इतने उन्नत नहीं हैं, कि इन theory को टेस्ट कर पाए ऐसे में सच्चाई क्या है कोई नहीं जानता 

06. पृथ्वी पर कितने तरह के जीव हैं ?

आज हम मंगल पर बताने की सोच रहे हैं, पर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि हम पृथ्वी के बारे में उतना नहीं जानते जितना इस ब्रह्मांड के बारे में, दरअसल पृथ्वी के लगभग 75% भाग में पानी है और हम ज्यादातर इलाकों में जा नहीं सके हैं, इसलिए हमें नहीं पता कि वहां कौन से नए जी हमारा इंतजार कर रहे हैं, जब कभी divers नय इलाकों में जाते हैं तो कोई नई प्रजाति मिल ही जाती है। ऐसे में विज्ञान के पास इसका कोई जवाब नहीं है कि पृथ्वी पर कितने तरह के जीव हैं 
earth

07. चेतना कैसे काम करता है?

इसनों मे जागरूकता है हम अपने आसपास के वातावरण को समझते हैं हम अपने अस्तित्व के बारे में सवाल कर सकते हैं हम अपना मकसद जानने की उत्सुकता रखते हैं हम खुद से बातें कर सकते हैं यह चेतना कहलाती है तथा हमें बातों से सर्वोत्तम बनाती है पर हमें नहीं पता किए आती कहां से है या काम कैसे करती है हमारा दिमाग हमारे सेंट्रल कंप्यूटर की तरह काम करता है तथा सभी शारीरिक क्रियाओं को संभालता है हमारे दिमाग से पता चलता है कि हमारा दिमाग कि sell कितने तरीके से इलेक्ट्रिक सिग्नल का आदान-प्रदान करते हैं और चेतना एक नहीं है इलेक्ट्रिकल सिग्नल समय यह नहीं बताते कि कैसे यह भौतिक दिमाग चेतना का निर्माण कर लेता है।  आखिर ये चेतना क्या और कहां से आती है हम नहीं जानते 

08. प्लेसिबो इफेक्ट कैसे काम करता है ?

एक fake ट्रीटमेंट, जिससे मरीज को केवल यह विश्वास दिला देना कि वह जल्द ही ठीक हो जाएगा उसके ठीक होने की गति को बढ़ा देता है इसे प्लेसिबो इफेक्ट कहते हैं मरीजों के शरीर और दिमाग का अध्ययन करने से पता चला है, कि ऐसे मरीज जिन्हें ठीक होने का विश्वास हो जाता है उनके शरीर की बीमारियों से लड़ने की क्षमता आश्चर्यजनक रूप से बढ़ जाती है लाखों मरीज इस टेक्निक से ठीक होते आ रहे हैं आज तक यह पता नहीं चल पाया है कि ऐसा होता कैसे है। 

मरने के बाद क्या होता है

09. मरने के बाद क्या होता है?

यह सवाल मानव सदियो से करता आया है प्राचीन सभ्यताएं यह मानते थे कि कर्मों के आधार पर आत्मा स्वर्ग या नरक में जाती है कुछ धर्म पुनर्जीवन पर विश्वास करते हैं आज वैज्ञानिक ये तो जान लेते हैं कि व्यक्ति कब मरने वाला है, पर मरने के बाद क्या होता है यह अभी भी एक रहस्य ही है। कई लोग जिन्होंने नियर डेथ एक्सपीरियंस को देखा है प्रकाश से भरे एक गुफा में खींचे जाने की बात करते हैं/  कुछ लोग अपने मरे हुए परिजनों या ईश्वर से बात करने की भी बात करते हैं पर हकीकत क्या है, विज्ञान के पास इसका कोई उत्तर नहीं है।  

10. ब्लड Types क्यों है?

हम जानते हैं कि blood-types कई प्रकार के होते हैं, साथ ही साथ हम यह भी जानते हैं कि उनमें मौजूद anti-jans दूसरे ब्लड ग्रुप को काम नहीं करने देते।  जिसके कारण हमें सेम ब्लड ग्रुप की जरूरत होती है। आज विज्ञान ब्लड यानी खून के बारे में काफी कुछ जान गया है, जैसे कि यह कैसे बनते हैं और क्या करते हैं, पर हम यह नहीं जानते कि इतने तरह के ब्लड ग्रुप इंसानों में क्यों होते हैं।  




0/Post a Comment/Comments

Thank you

Previous Post Next Post